अन्य
कुमार हरीश

धरा

आज का प्रभाती शब्द – धरा लिखिए कमेन्ट बॉक्स में इस शब्द पर अपनी पंक्तियां, मुक्तक या कुछ भी अपनी कलम से रचनात्मक … www.likhobharat.com

पूरा पढ़ें »
guru-mahima-geet
गीत
कुमार हरीश

गुरु महिमा गीत

आज गुरु पूर्णिमा के पुण्य दिवस पर पढ़िए गुरु की महिमा का वर्णन करता ये गीत – गुरु महिमा गीत  गुरुजी के नाम से, सारे

पूरा पढ़ें »
ek-din-ka-yog
लेख
कुमार हरीश

एक दिन का योग

सुबह सुबह जब दो तीन बार आवाज देने के बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला तो दूध वाले भैया ने आखिर घंटी बजा ही दी।

पूरा पढ़ें »
veer-sawarkar
कविता
कुमार हरीश

वीर सावरकर – कविता

अपने आजीवन कारावास के दौरान जेल की दीवारों पर कील व कोयले से कविताएँ लिखने वाले महान क्रांतिकारी विनायक दामोदर सावरकर की जयंती पर उनके

पूरा पढ़ें »
thumbnail
कविता
कुमार हरीश

उसे पाने के लिए

उसे पाने के लिए मै खूब रोया न जाने कितनी रातेँ आँसू बहाकर सोया तकिया भीग गया पी – पीकर आँसुओं को पर उसका ख्वाब

पूरा पढ़ें »

लेखक परिचय

नयी रचनाएँ

फेसबुक पेज

ई-मेल सब्सक्रिप्शन

“लिखो भारत” की सभी पोस्ट सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए अपना ई-मेल पता यहाँ लिखें।
पूर्णतया निशुल्क है।

रचना भेजिए

यदि आप लेखक या कवि हैं तो अपने विचारों को साहित्य की किसी भी विधा में शब्द दें।
लिखिए और अपनी रचनाएं हमें भेजिए।

आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुकाम, रचना भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें।