धरा

आज का प्रभाती शब्द – धरा लिखिए कमेन्ट बॉक्स में इस शब्द पर अपनी पंक्तियां, मुक्तक या कुछ भी अपनी कलम से रचनात्मक … www.likhobharat.com

पूरा पढ़ें »
hindutva-ki-pyari-hindi

हिंदुत्व की प्यारी “हिंदी”

हिंदुत्व की प्यारी “हिंदी” हिंदुत्व की प्यारी हिंदी रज रज मैं बसी हुई है शब्दकोश का भंडारण सरलता से भरी हुई । हिंदी है अनुभवों

पूरा पढ़ें »
hindi-diwas-par-kavita

हिंदी दिवस पर कविता

~ हिंदी दिवस पर कविता ~ हिंदी से संस्कृति हमारी हिंदी से है आन, हिंदी से ही विश्व में देखो है अपनी पहचान। है दुर्भाग्य

पूरा पढ़ें »
hindi-diwas-vishesh

हिंदी दिवस विशेष

~ हिंदी दिवस विशेष ~ मातृभाषा बना दिया था पुरखो ने जिसे हमे, उस धरोहर को मात्र भाषा बनाकर छोड़ दिया, हम निर्लज्जो ने आधुनिकता

पूरा पढ़ें »

शिक्षक पर कविता

~ शिक्षक पर कविता ~ ईश्वर ने हमको दिया, शिक्षक एक प्यारा उपहारजो अंधकार को दूर करे, फैलाये जन जन ज्ञानदया, धर्म का पाठ पढ़ा,

पूरा पढ़ें »

शिक्षक का मह्त्व

~ शिक्षक का मह्त्व ~ गुरु बिन ज्ञान नही ,गुरु ज्ञान की खानशिक्षक बनकर जोभविष्य गढ़े हमारामात पिता के समान ।। ये जीवन कितना भीकठिन

पूरा पढ़ें »
Likhobharat.Com

Likhobharat.Com

हमारा मुख्य उद्देश्य साहित्य जगत के नए कलमकारों को अपने लेखन के लिए ऑनलाइन मंच प्रदान करना है ।

सभी रचनाएँ देखें

मुख्य विधाएँ

ई-मेल सब्सक्रिप्शन

“लिखो भारत” की सभी पोस्ट सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए अपना ई-मेल पता यहाँ लिखें।
यह पूर्णतया निशुल्क है।

रचना भेजिए

यदि आप लेखक या कवि हैं तो अपने विचारों को साहित्य की किसी भी विधा में शब्द दें।
लिखिए और अपनी रचनाएं हमें भेजिए।

आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुकाम, रचना भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें।

deshbhakti-par-kavita
कविता
नीरज श्रीवास्तव

देशभक्ति पर कविता

~ देशभक्ति पर कविता ~ स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर आओ हम कुछ याद करें आजादी के दीवानों की आज फिर से बात करें। गुलामी

पूरा पढ़ें »
गीत
आनंद कुमार पांडेय

लिख रही है कलम

आज का ये जहाँ पहले जैसा कहाँ, रो-रो हर दास्ताँ लिख रही है कलम। याद बचपन की वो खेल मैदान की, माँ की वो लोरियां

पूरा पढ़ें »
kya-likhu-ab-aaj-main
कविता
आदित्य मुकेश मिश्रा

क्या लिखूं अब आज मै

क्या लिखूं अब आज मै, कलम भी अब ये सोच रही है भूखे भेड़ियों की हैवानियत, परियों के जिस्म को नोच रही है हर दूसरे

पूरा पढ़ें »
shree-ram-kavita
कविता
रूपचंद सोनी

श्री राम कविता

 भगवान श्री राम के संघर्षशील जीवन को समर्पित कविता – श्री राम कविता राम होना भी कोई खेल नही सिर्फ नीति धर्म का ही मेल

पूरा पढ़ें »
munshi-prermchand-kavita
कविता
राहुल कुमार सिंह

मुंशी प्रेमचंद – कविता

~ मुंशी प्रेमचंद – कविता ~ करें नमन साहित्य-सम्राट को, कितनी अच्छी कफन कहानी। पंच परमेश्वर, नमक का दरोगा, कौन भूलेगा, दिल की रानी। गबन,

पूरा पढ़ें »