veer-sawarkar

वीर सावरकर – कविता

“वीर सावरकर”

अपने आजीवन कारावास के दौरान जेल की दीवारों पर कील व कोयले से कविताएँ लिखने वाले महान क्रांतिकारी विनायक दामोदर सावरकर की जयंती पर उनके व्यक्तित्व का बखान  करती यह कविता वीर सावरकर…
 

यदि मुश्किल है पीड़ा सहना
असंभव है सावरकर बनना
बरसों तक काल कोठरी में
आसान नहीं तप में तपना
यातनाएं सही जो आजीवन
जीवन भर याद रखेगा भारत
तुमको याद करेगा भारत ।।

जो अन्यायी से लड़े
राष्ट्रवाद के साथ खड़े
चेहरे पर जिनके तेज
आज़ादी के मकसद बड़े
उन सावरकर के लिए आज
खुली आँख बहेगा भारत
तुमको याद करेगा भारत ।।

जो कोल्हू में जुते
कालापानी को सहे
कोयले से दीवारों पर
कविताएँ जो लिखे
उन जली हुई कविताओं को
फिर से आज पढ़ेगा भारत ।।
तुमको याद करेगा भारत ।।

स्वाभिमान थी जिनकी शक्ति
मांग रही जंजीरें मुक्ति
भारत आजाद कराने की
थी जिनमे इक सुसंगत युक्ति
ऐसे देशभक्त सावरकर
तुमको नमन करेगा भारत
तुमको याद करेगा भारत ।।

कालापानी की सजा पाकर
जो सावरकर इतिहासी है
जिसने समझा भारत माता
आजाद हवा की प्यासी है
ऐसे राष्ट्रवादी वीरों को
भूल नहीं पाएगा है भारत
तुमको याद करेगा भारत ।।
तुमको याद करेगा भारत ।।

कुमार हरीश


यह कविता मेरे द्वारा स्वरचित व पूर्णतया मौलिक है। इसका सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्षित है। आपको ये कविता कैसी लगी ? आपके सुझावों व विचारों की प्रतीक्षा मे…कुमार हरीश

लेखक की अन्य रचनाएँ यहाँ पढियें

शहीद भगत सिंह के प्रेरणादायक विचार

अटल बिहारी वाजपेयी के मरणोपरांत उनके व्यक्तित्व पर लिखी हुई कविता यहाँ पढ़े 

“लिखो भारत ”- कविता – कुमार हरीश

आपकी रचनात्मकता को लिखो भारत देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें

यदि आप पढ़ने में रूचि रखते हैं तो हमारी रचनाएँ सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए निचे दिए गए ई-मेल सब्सक्रिप्शन बोक्स में ई-मेल पता लिखकर सबमिट करें, यह पूर्णतया नि:शुल्क है।

हम आशा करते हैं कि उपरोक्त कविता “वीर सावरकर” आपको पसंद आई होगी, अपनी प्रतिक्रिया कमेन्ट करके अवश्य बताएं, रचना अच्छी लगे तो शेयर भी करें।
veer sawarkar, veer sawarkar kavita,  veer sawarkar kavita in hindi सावरकर पर हिंदी कविता, सावरकर पर कविता, वीर सावरकर पर कविता


शेयर करें :-

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on facebook

This Post Has 4 Comments

  1. Gauri Jahagirdar

    सुंदर कविता
    स्वातंत्र्यवीर सावरकर जी शत् शत् नमन

आपकी प्रतिक्रिया दीजियें

लेखक परिचय

नयी रचनाएँ

फेसबुक पेज

ई-मेल सब्सक्रिप्शन

“लिखो भारत” की सभी पोस्ट सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए अपना ई-मेल पता यहाँ लिखें।
पूर्णतया निशुल्क है।

रचना भेजिए

यदि आप लेखक या कवि हैं तो अपने विचारों को साहित्य की किसी भी विधा में शब्द दें।
लिखिए और अपनी रचनाएं हमें भेजिए।

आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुकाम, रचना भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें।