shahid-rajguru-par-hindi-kavita

शहीद राजगुरु पर हिंदी कविता

~ शहीद राजगुरु पर हिंदी कविता ~

राजगुरु की अमर कहानी लिखता हूंँ जज्बातों में।
शिथिल हुआ है अंतर्मन, रोए कलम अँसुपातों में।

वतन के हित बलिदान किया, वो थे फांँसी पे झूल गए।
राजगुरु सुखदेव भगत सिंह, थे अपने सपने भूल गए।

वतन परस्ती के खातिर, जिन वीरों ने बलिदान दिया।
राजगुरु वो नाम था जिसने, था सब कुछ कुर्बान किया।

भाद्रपद के कृष्णपक्ष की, त्रयोदशी तिथि थी आई।
24 अगस्त 1907 को ,अपनी धरा भी तब हर्षाई।

महाराष्ट्र के जिला पुणे का, धन्य वो खेड़ा गांँव।
जहां पले थे राजगुरु, अपने मां की ममता छाँव।

अल्पायु में पिता को खोया, दुख भरा बचपन पाया।
मां भाई ने मिलकर पाला, था बनके ईश्वर की काया।

शिक्षा पाने के खातिर, वाराणसी प्रस्थान किया।
धर्म ग्रंथों के संग अपने, वेदों का था ज्ञान लिया।

आजाद भगत सिंह से सरीखे, थे मित्र यहां वो पाए।
आजादी वह देश भक्ति का, मिलकर अलग जगाए।

लाजपत राय की हत्या से, था अंतर्मन में क्रोध अपार।
लिया बदला तब गोरों से, सैंदर्श गया परलोक सिधार।

दिल्ली असेंबली में बम फेंका, अंग्रेजों को दहलाने को।
गोरों ने था पकड़ लिया, वीर न भागे पीठ दिखलाने को।

फांसी की जो बात सुनी, झूम उठे तीनों मर्दाने।
लगे गूंँजने और तीव्र हो, उनके मस्ती भरे तराने।

लगी लहराने कारागृह में, इंकलाब की धारा।
जिसने भी था सुना वही, प्रतिउत्तर में हुंकारा।

मृत्यु की जो नाम सुने, सब लोग काँप हैं जाते।
उसको पाने को झगड़ रहे, हैं ये कैसे मदमाते?

गूंँज उठा आलाप वही, मेरा रंग दे बसंती चोला।
पहन जिसको था मनु ने, अंग्रेजों पे धावा बोला।

संग भगत सिंह व सुखदेव, दिए आहुति प्राणों की।
भारत मां का कर्ज चुकाया, व उनके एहसानों की।

तीनों वीरों ने हंँसकर, था अपना बलिदान किया।
मातृभूमि पे शीश चढ़ाया,अपना सर्वस्व दान किया।

खुशी – खुशी फंदे को चूमा, मातृप्रेम की ज्योत जलाई।
कोई सिकन न मुख पे था, लोगों में तब आस जगाई।

और कहानी क्या मैं लिखूं, अपने भारत के उस वीर का?
शब्द भी मेरे द्रवित हुए हैं, सुन कर कहानी शूरवीर का?

और नहीं लिख सकता मैं, है अंतर्मन अवरुद्ध हुआ।
लिखकर उनकी गौरव गाथा, मैं मन से हूंँ शुद्ध हुआ।

राहुल कुमार सिंह

नवी मुंबई (महाराष्ट्र)

लेखक से फेसबुक पर जुड़ने के लिए क्लिक करें।


हमें विश्वास है कि हमारे लेखक स्वरचित रचनाएं ही यहाँ प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित लेखक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है और इसका सर्वाधिकार इनके पास सुरक्षित है।

अन्य रचनाएँ यहाँ पढ़े

अमर देश की शान तिरंगा

राष्ट्र ध्वज वंदना

कारगिल विजय दिवस पर कविता

यदि आप लिखने में रूचि रखते हैं तो अपनी मौलिक रचनाएँ हमें भेज सकते हैं,
आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें

यदि आप पढ़ने में रूचि रखते हैं तो हमारी रचनाएँ सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए निचे दिए गए ई-मेल सब्सक्रिप्शन बोक्स में ई-मेल पता लिखकर सबमिट करें, यह पूर्णतया नि:शुल्क है।

हम आशा करते हैं कि उपरोक्त रचना ~ शहीद राजगुरु पर हिंदी कविता ~आपको पसंद आई होगी, अपनी प्रतिक्रिया कमेन्ट करके अवश्य बताएं। रचना अच्छी लगे तो शेयर भी करें।

शेयर करें :-

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on facebook

आपकी प्रतिक्रिया दीजियें

लेखक परिचय

नयी रचनाएँ

फेसबुक पेज

ई-मेल सब्सक्रिप्शन

“लिखो भारत” की सभी पोस्ट सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए अपना ई-मेल पता यहाँ लिखें।
पूर्णतया निशुल्क है।

रचना भेजिए

यदि आप लेखक या कवि हैं तो अपने विचारों को साहित्य की किसी भी विधा में शब्द दें।
लिखिए और अपनी रचनाएं हमें भेजिए।

आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुकाम, रचना भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें।