os-ki-bund

ओस की बूंद

 

~ ओस की बूंद ~

ओस की बूंद
जब गिरती है
इस जमीन पर
भूल जाती है
अपने अस्तित्व को

क्यों गिरी!
किधर से गिरी
पता नहीं उसे
अपनी कहानी
पर जब भी गिरी
एक नव पल्लव के रूप में
अवतरित हुई

गिरते ही पीछे
छोड़ देती है कुछ
परिभाषाएं
कुछ नई उम्मीदों
से भरी स्मृतियां

क्या तुमने कभी देखा है
ओस की बूंदों की
मुस्कुराहट
जो मृदु ममतायी बनकर
ठहर जाती है
इन मृग नैनों में
ठीक वैसे ही
हर पल
आते हो तुम
ओस की बूंद बन कर
लिख जाते हो
इस हृदय पर एक
मीठा सा पैगाम

और
ओस की बूंद
की भांति ही
भिगो जाते हो
रोज
इन पलकों को!

उषा यादव

लेखिका उषा यादव से फेसबुक पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


हमें विश्वास है कि हमारे लेखक स्वरचित रचनाएं ही यहाँ प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारी इस सम्मानित लेखिका का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है और इसका सर्वाधिकार उनके पास सुरक्षित है। 

अन्य रचनाएँ यहाँ पढ़े

पूर्णमासी चांद सा चेहरा

दलित साहित्य का स्त्रीवाद स्वर- किताब समीक्षा

संस्कारों की दौलत – कहानी

यदि आप लिखने में रूचि रखते हैं तो अपनी मौलिक रचनाएँ हमें भेज सकते हैं, आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुक़ाम,
रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें

यदि आप पढ़ने में रूचि रखते हैं तो हमारी रचनाएँ सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए निचे दिए गए ई-मेल सब्सक्रिप्शन बोक्स में ई-मेल पता लिखकर सबमिट करें, यह पूर्णतया नि:शुल्क है।

हम आशा करते हैं कि उपरोक्त रचना ओस की बूंद आपको पसंद आई होगी, अपनी प्रतिक्रिया कमेन्ट करके अवश्य बताएं।
रचना अच्छी लगे तो शेयर भी करें।

शेयर करें :-

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on facebook

आपकी प्रतिक्रिया दीजियें

लेखक परिचय

नयी रचनाएँ

फेसबुक पेज

ई-मेल सब्सक्रिप्शन

“लिखो भारत” की सभी पोस्ट सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए अपना ई-मेल पता यहाँ लिखें।
पूर्णतया निशुल्क है।

रचना भेजिए

यदि आप लेखक या कवि हैं तो अपने विचारों को साहित्य की किसी भी विधा में शब्द दें।
लिखिए और अपनी रचनाएं हमें भेजिए।

आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुकाम, रचना भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें।