likhobharat kavita

लिखो भारत – कविता – कुमार हरीश

“ लिखो भारत ”

स्वर्णिम इतिहास के पन्नों पर
फिर से इतिहास लिखो भारत
कुछ अच्छी बात लिखो भारत
कुछ सच्ची बात लिखो भारत ।।

सोने की चिड़िया कहते थे
इतना समृद्ध लिखो भारत
कितनो ने बलिदान दिया
सबको क्रमबद्ध लिखो भारत ।।

जहां सब धर्मों को मान मिले
ऐसा सम्मान लिखो भारत
सर कट जाए पण झुके नहीं
ऐसा अभिमान लिखो भारत ।।

जहां ऊंच नीच की रीत नहीं
कुछ ऐसा गीत लिखो भारत
हिंद की सेना के दम पर
करगिल की जीत लिखो भारत ।।

जो देश के खातिर मरे मिटे
उनको नमन करो भारत
वन्दे मातरम नारे को
अब और बुलंद करो भारत ।।

मंगलपांडे के खून में था
वो इंकलाब लिखो भारत
सत्तावन से सैतालिस तक
सारा हिसाब लिखो भारत ।।

गांधी के चरखे से पहले
नेता सुभाष लिखो भारत
सुखदेव राजगुरु भगतसिंह
फिर से आजाद लिखो भारत ।।

श्री राम की जन्मभूमि है ये
इसका निर्माण करो भारत
सर्वे संतु निरामया का
रोज आह्वान करों भारत ।।

टुकड़ों में खंडित भारत को
पुनः अखंड करो भारत
जयकारा भारत माता का
ऐसा प्रचंड करो भारत ।।

दुनियां मानेगी जगतगुरु
कुछ ऐसा काम करो भारत
या तो जिंदा करो संस्कृति
या फिर स्वयं मरो भारत ।।

-कुमार हरीश


यह रचना मेरे द्वारा स्वरचित व पूर्णतया मौलिक है। इसका सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्षित है।
आपको ये रचना कैसी लगी ? आपके सुझावों व विचारों की प्रतीक्षा मे . . .”


वीर सावरकर – कविता

शहीद भगत सिंह के प्रेरणादायक विचार

हाकिम को चिट्ठी – कोरोना काल

अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित करती मेरी कविता – जब नहीं रहें अटल यहाँ पढ़े –

यदि आप लिखने में रूचि रखते हैं तो अपनी मौलिक रचनाएँ हमें भेज सकते हैं, आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुक़ाम,
रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें

यदि आप पढ़ने में रूचि रखते हैं तो हमारी रचनाएँ सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए निचे दिए गए ई-मेल सब्सक्रिप्शन बोक्स में ई-मेल पता लिखकर सबमिट करें, यह पूर्णतया नि:शुल्क है।

हम आशा करते हैं कि उपरोक्त रचना आपको पसंद आई होगी, अपनी प्रतिक्रिया कमेन्ट करके अवश्य बताएं।
रचना अच्छी लगे तो शेयर भी करें।

शेयर करें :-

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on facebook

This Post Has 8 Comments

  1. बहुत खूब हरीश जी।

    अब कलम उठी है तो नहीं रुकेगी
    रोज़ नई एक गीत रचेगी।

    जय हिंद

    1. जब तक है संसार में रवि….लिखता रहेगा भारत का हरेक कवि….

  2. राजेश भारती

    जबरदस्त पैनी 🙏🙏🙏❤️❤️❤️👍👍👍

  3. Pk Singh

    अति सुन्दर रचना

आपकी प्रतिक्रिया दीजियें

लेखक परिचय

नयी रचनाएँ

फेसबुक पेज

ई-मेल सब्सक्रिप्शन

“लिखो भारत” की सभी पोस्ट सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए अपना ई-मेल पता यहाँ लिखें।
पूर्णतया निशुल्क है।

रचना भेजिए

यदि आप लेखक या कवि हैं तो अपने विचारों को साहित्य की किसी भी विधा में शब्द दें।
लिखिए और अपनी रचनाएं हमें भेजिए।

आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुकाम, रचना भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें।