ladkiya-sab-samajh-jati-hai

लड़कियाँ सब समझ जाती है।

लड़कियाँ सब समझ जाती है।”

इक लड़की है जो कुछ बोलती नही

जुबां अपनी वो खोलती नही

खामोश क्यों रहती है पता नही

सब कुछ सहती जाती है

किसी को भी कुछ कह नही पाती

न ही अपनी आपबीती सुनाती है

अपने सपनो को भी दबाती है

खुद को न जाने कैसे सुलाती है

चेहरे पर झूठी मुस्कान लेकर

अंदर ही अंदर रोती जाती है

जो चाहती है वो भी चाह नही पाती है

खुद के ही सवालो में उलझ जाती है

अपने हालात बता नही पाती है

और हमें लगता है कि

लड़कियाँ सब समझ जाती है।

  • कूमार हरीश

 

यह रचना मेरे द्वारा स्वरचित व पूर्णतया मौलिक है। इसका सर्वाधिकार मेरे पास सुरक्षित है। आपके सुझावों व विचारों की प्रतीक्षा मे…कुमार हरीश

लेखक की अन्य कवितायेँ यहाँ पढ़े।

हाकिम को चिट्ठी – कोरोना काल

भाई बहन का रिश्ता – रितु नामा

यदि आप लिखने में रूचि रखते हैं तो अपनी मौलिक रचनाएँ हमें भेज सकते हैं, रचना भेजने के लिए  यहाँ क्लिक करें http://likhobharat.com/rachana-bhejiye/

यदि आप पढने में रूचि रखते हैं तो हमारी रचनाएँ सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए निचे दिए गए ई-मेल सब्सक्रिप्शन बोक्स ई-मेल पता लिखकर सबमिट करें, यह पूर्णतया निःशुल्क है।


 

शेयर करें :-

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on email
Share on facebook

लेखक परिचय

नयी रचनाएँ

फेसबुक पेज

ई-मेल सब्सक्रिप्शन

“लिखो भारत” की सभी पोस्ट सीधे ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए अपना ई-मेल पता यहाँ लिखें।
पूर्णतया निशुल्क है।

रचना भेजिए

यदि आप लेखक या कवि हैं तो अपने विचारों को साहित्य की किसी भी विधा में शब्द दें।
लिखिए और अपनी रचनाएं हमें भेजिए।

आपकी रचनाओं को लिखो भारत देगा नया मुकाम, रचना भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें।